• Facebook
  • Instagram
  • YouTube
Search
  • जनकवि निर्दलबंधु ।।

सच पूछो तो ।।जनकवि निर्दलबंधु

क्या लिप्त लोलुपो का साम्राज्य यहां, युग चेतना संघर्ष संघ हो सकता है ?

क्या दैत्य अद्वैतवाद का तंत्र मंत्र, स्वच्छ स्वतंत्र भारत गढ़ सकता है ?

स्वार्थ शोषण प्रभुत्व व दमन तंत्र को आज का समाज नहीं बदल सकता है ।

तो क्या फिर आज का पुरुषार्थ सच परमार्थ में ढल सकता है ?

क्या हर तरह की लिप्सा का उबाल हवस तमस की उमस में ठहर सकता है ?

अगर सच पूछो तो एक-एक उत्तर इसी शोध संधान मैं निकल सकता है ।।

24 views