Search
  • जनकवि निर्दलबंधु ।।

तब तो कहूँ नंबर वन रहे ।।

जे पी नड्डा जी कहें कि मोदी जी

संक्रमण रोकने में नंबर वन रहे ।

इससे बड़ी तारीफ भी और क्या

पहला संक्रमण ज्ञात हुआ मगन रहे।।


संक्रमित देशों से लाखों भीड़ लाए

सभा समारोह में नंबर वन रहे ।

देखते-देखते चंद दिनों में अब

एक से बढ़कर हजारों संक्रमण रहे ।।


तो क्यों न 3 मई से पहले ही मिलों

कंपनियों कार्यालयों में सम्मिलन रहे ।

आधे दिन बाजार में भी भीड़ भाड़

बस शाही फरमान कि जतन रहे।।


जतन तो वह हो नहीं सकती थी अरे

खूब डंके डंडे खूब उत्पीड़न रहे ।

खूब लूट खशोर मौका था बस

भीख बटोरने में भी नंबर वन रहे।।


कालाबाजारी ने भी सिर उठाया है

बस काला कानून लाने की रटन रहे।

मौका मिले तो जमाती बना डालें खूब

सुपरस्टार दिखने की ही लगन रहे ।।


वह दबा हुआ बचछड़ अगर बिखर गया

सचेतना है कि जिम्मेदार ए बतन रहे ।

हीला हवाली ढीला ढाली में पडो मत

वक्त है अभी भी उचित रहन-सहन रहे ।।


अभी मौका है एक दूसरे को घेरने का

कहते हैं सख्ती, बर्ताव,नियमन रहे ।

इन्हें पता भी है कि यह हो नहीं सकता है

लो डंका डंडा पुनः अगर उल्लंघन रहे ।।


यह बड़ी कूटनीति का खेल है दोस्तों

हर किसी की निगाह में इनकी चमक रहे ।

आसाराम जैसे तांत्रिकों का तंत्र व्याप्त है

चाहता हूं मेरा देश काल सजग रहे ।।


लॉकडाउन में अधिक रह नहीं सकते हैं ये

जहां 6 साल खूब अमन चमन रहे ।

देश की दौलत उड़ा दी झंडों फंडों में

अब लूट मारी बस जोर जतन रहे ।।


हो सकता है लुटे बटोरे धन से अभी

देश में सीएए का संक्रमण रहे ।

जमातियों पर ठिकरा फोड़ा ही है

हो सकता है देश विदेश से भी समर्थन रहे।।


जल्लादों की मिलीभगत लंबी है

कर्णधारों को अभी भी जतन रहे ।

हाथ पसार जब देश चलाएं मिथ्याचारी

इस जीने से तो भला समपर्ण रहे ।।


अमन खूब घुट रहा है दोस्तों आओ

हो सकता है घर में कफन न रहे ।

कफन सिर लपेट लिए थे लाडलों ने

घर-घर तक संघर्ष सतर्क सचेतन रहे ।।


लॉकडाउन के लिए व्यवस्था चाहिए

आवश्यक भी है सलामत चमन रहे ।

एक सिस्टम रहे आवश्यक काम का

सुरक्षा व बर्ताव का सख्त नियमन रहे ।।


अवश्य घर चीज तुम्हारे हाथ हो

उचित संचालन दृढ़ प्रबंधन रहे ।

हर संकट से बचा सकते हो देश अभी

तब तो कहूँ दुनिया में नंबर वन रहे ।।


जनकवि निर्दलबंधु ।

0 views
  • Facebook
  • Instagram
  • YouTube