• Facebook
  • Instagram
  • YouTube
Search
  • जनकवि निर्दलबंधु ।।

कौन कर रहा है सच शहीदों को नमन ।।

आज दिनांक 4 -11 -2019 को युग चेतना संघर्ष कार्यकारिणी की एक बैठक आयोजित की गई। बैठक में वर्तमान राज्य स्थापना दिवस 9 नवंबर 2019 को आयोजित शहीदों को नमन कार्यक्रम की पूर्व रूप रेखा तय की गई।बैठक में मुख्यतः कार्यकारिणी के वरिष्ठ पदाधिकारी श्रीमान नेत्र सिंह चुफाल जी श्रीमान भुवन चंद्र जोशी जी प्रधानाचार्य श्रीमान हरिश्चंद्र सिंह दानू जी श्रीमान सुरेंद्र सिंह कुंवर जी श्रीमान नीरज जोशी जी श्रीमान विजय कुमार जी युवा साथी श्रीमान ललित मोहन जी संघ के संस्थापक जनकवि निर्दल बंधु गंगाराम आर्य आदि मुख्य उपस्थित रहे । संघ संस्थापक जनकवि निर्दल बंधु गंगाराम आर्य ने कहा कि यहां शहीद स्मारक पर आए दिन राजनेताओं के जमघट लगते रहते हैं ताकि लोग माने कि यह शहीदों को याद कर अपने संकल्प जता रहे हैं मगर हकीकत में यह केवल दिखावा है जिससे यहां की आम जनता गुमराह होती है ।आज तहे दिल शहीदों को याद करने वाला सच कौन है फर्जी अड्डे अखाड़ों जश्न जलसा के तहत आम जनता देख रही है ।कवि ने सवाल उठाया है कि राज्य आंदोलनकारियों ने अलग राज्य की लड़ाई में अपना ऐतिहासिक बलिदान क्यों दिया निरंतर 100 साल तक चलती रही इस मांग का आखिर क्यों धन बाहुबलियों लिप्त लोलुपो ने घोर दमन किया। मॉडल स्टेट धरती के स्वर्ग व ऊर्जा प्रदेश आदि के नाम वह आज भी प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष दमन कर रहे हैं ।आडंबर के ढेर में हुए राज्य की दिव्य नैसर्गिक गरिमा को नर्कहाल बना चुके हैं ।यहां पर एकमात्र पूजी पतियों का एकछत्र राज स्थापित हो चुका है ।निजी निवेश और कंपनीवाद युवा शक्ति का रोजगार और सुखचैन निकल चुका है ।धर्म आस्था के नाम यहां पर अपार लूट चली है और यहां के शिक्षा संस्कार रीती रिवाज व आदर्श मानवीय गुणधर्म नष्ट होते जा रहे हैं। देवभूमि उत्तराखंड शराब खोरी जिस्मफरोशी जैसी वारदातों में डूबता जा रहा है ।राज्य स्थापना 9 नवंबर 2000 के बाद अब तक दश मुख्य मंत्रियों का देहरादून में विराजमान होना किस बात का संकेत देता है अंततः जन कवि ने कहा कि अब हर हर मोदी की लहरों में देश काल का बेड़ा डूबने ही वाला है दुनिया के सबसे बड़े अपराधी के हाथ में जिस देश की सत्ता होगी क्या वह देश नया भारत या प्रचंड भारत के रूप में उभर सकता है क्या मद मुद्दों के जादूगर की नमो गंगे परियोजना वास्तव में स्वच्छ भारत की शुरुआत कर रही है क्या ये भ्रष्ट दागी बागी व अपराधी ताकतें देश का नवनिर्माण कर सकती हैं क्या सैकड़ों मीटर लंबी मूर्ति बनाने से देश एक और अखंड हो सकता है। यह इसलिए कि मोदी ने दुनिया में सबसे बड़ा काम कर दिया यह भापू मीडिया वाले भी बजाते रहे ।एक मंदिर में लाखों दिए जलाकर योगी महाराज अंधकार में डूबी करोड़ों जिंदगियों को रोशनमान कर सकते हैं ।अधिक विचारों के लिए nayabharat.co.in बेबसाइट को खोलकर देखने का कष्ट करें और आएं जनकवि द्वारा आयोजित शहीदों को नमन कार्यक्रम का अवलोकन करें।यह कार्यक्रम किसी शहीद स्मारक में आयोजित न होकर खुले मैदान में आयोजित किया जाता है जहां तहे दिल से 75 वर्षीय मातृशक्ति खगोती देवी की आंखें छलक आती हैं या फिर उठो धरा के अमर सपूतों गीत पर पांव थिरकने लगते हैं अतः कवि के अंतः से दिब्य चेतना चुनौती है कि देशकाल निकट भविष्य में किसी अपूर्व संकट की ओर अग्रसर है और समय के रहते युग चेतना संघर्ष संघ की सोच को साकार कर उन महापुरुषों,दिव्यदिवंगतों व शहीदों की भटकती आत्माओं की सुख शांति हेतु मिनी उत्तराखंड बिंदुखत्ता से राज्य व देश काल के आदर्श पुनर्निर्माण की जन भावनात्मक स्वर्णिम युग क्रांति को अग्रसर करने की नितांत आवश्यकता है ।।

11 views