• Facebook
  • Instagram
  • YouTube
Search
  • जनकवि निर्दलबंधु ।।

एक एक खिलाड़ी ।।जनकवि निर्दलबंधु

भ्रष्टाचार विरोधी तूफान मचा गए आचार विचार शिक्षा संस्कार उड़ा गए ।

अमानवीय गुण धर्मों की प्रयोगशाला खुले मैदान में साफ-साफ बचा गए ।।

क्या हुआ भ्रष्टाचारियों पर धाक जमा गए काले कारनामों अय्याशियों से आँख बचा गए ।

बहेगा नहीं जब तक वह काला काला मन क्या हुआ कुछ काला काला धन बहा गए ।।

अंबानियों कारपोरेटों की बिसात बिछा गए मदमुद्दों पर नोट वोटों का कमाल दिखा गए ।।

देश के दिल दिल्ली में एक एक खिलाड़ी यों एक दूसरे का राज उड़ा गए ।।

23 views